https://i0.wp.com/www.narendramodi.in/news_letter/images/2011/feb/mailer8feb2011/vasant_panchmi_poem.jpg


Hindi ver

अंत में आरंभ है, आरंभ में है अंत,

हिय में पतझर के कूजता वसंत।

सोलह बरस की वय, कहीं कोयल की लय,
किस पर है उछल रहा पलाश का प्रणय ?

लगता हो रंक भले, भीतर श्रीमंत

हिय में पतझर के कूजता वसंत।

किसकी शादी है, आज यहाँ बन में ?
फूट रहे, दीप-दीप वृक्षों के तन में

देने को आशीष आते हैं संत,

हिय में पतझर के कूजता वसंत।

—-Shri Narendra Modi’s poems
English Ver


All that begins meets an end,

Every end onsets a new beginning,
From the heart of autumn
Rises the cooing of spring…

At sweet sixteen, melody of a cuckoo within
On whom showers romance, the flowers of spring?
Appearing poor, but rich within…
From the heart of autumn
Rises the cooing of spring…

Who’s getting wedded in woods?
Each tree is lit in festive moods!
Bestowed with divine blessing
From the heart of autumn
Rises the cooing of spring…

—-Shri Narendra Modi’s poems

Advertisements